Search This Blog

Monday, 20 July 2015

मात्रिक - समछंद

तोमर छंद :-

                           तोमर एक सम मात्रिक  छंद है।  सम मात्रिक  इसलिए है क्योकि इसके चारो चरणो
                            में मात्राओ की संख्या समान होती है।   इसके प्रत्येक चरण में 12  मात्राएँ  होती है।
                            अंत में गुरु और लघु आता है।

लक्षण:-                 द्वादस   कल   ग  ल   तोमर       ---------     12  मात्राएँ    -  

उदाहरण :-
                            सुनी   राम  चन्द्र   कुमार

                            धनु   आनिये  याहि  बार

                            पुनि  बेगि  ताहि  चढ़ाय

                             यश  लोक  लोक  बढ़ाय
व्याख्या :-
                             तोमर में कुल 12  मात्राएँ  होती है।  अंत में गुरु  लघु  होता है।  उपर्युक्त
                             उदाहरण में कुल  12   मात्राएँ प्रत्येक चरण में है  अंत में गुरु लघु  अाने
                              से तोमर छंद है।


 कुण्डलिया छंद :-

व्याख्या :-

                        इस छंद में 6  चरण होते है।   इसमें प्रारम्भ की दो पंक्तियाँ दोहे की और शेष चार
                         रोल छंद की होती है।   दोहे के चतुर्थ चरण की आवृति रोल के आदि में होती है।
                          आरम्भ का और अन्त का शब्द एक होता है।
उदाहरण :-

                         गुन  के  गाहक  सहस  नर , बिनु  गुन   लहै  न कोय
                         जैसे  कागा  कोकिला , शब्द  सुने  सब   कोय।      ---------------               दोहा
 
                         शब्द सुने  सब  कोय   कोकिला  सबै  सुहावन       ----------------             रोला -
                          दोऊ  को  इक  रंग ,  काग  सब  भये  अपावन।
                          कह  गिरधर  कविराय , सुनो हो ठाकुर  मन के
                          बिनु  गुन  लहे  न कोय , सहस  नर गाहक गुन  के।

व्याख्या ::-
                          इनमे पहले दो चरणो में दोहे के लक्षण है अर्थात 13 और 11 पर यति है  और अंतिम
                           चार पंक्तियों में 24 -24  मात्राएँ  है तथा  11  व  13  पर यति  है।   अत: यह कुंडलिया
                            छंद है।  दूसरे चरण का उत्तरार्ध और तीसरे चरण का पूर्वाद्ध का पहला और अंतिम
                            शब्द एक है।   अत:  यह कुण्डलिया  छंद है।

दोहा :-

लक्षण :-           जान  विषम  तेरह  कला, सम  सिव  दोहा  ळान्त

व्याख्या :
                        यह अर्द्ध -सम मात्रिक  छंद  है।   इसके विषम चरणो में तेरह तथा  सम चरणो में  ग्यारह

                         मात्राएँ  होती है।   विषम चरण  के आदि में जगण  नहीं  होता  तथा अन्त  में लघु  होना

                         आवश्यक  है।

उदाहरण:-

                         ऐसी   बानी    बोलिए                            -       13   मात्राएँ

                         मन  का  आपा  खोई                             -        11   मात्राएँ

                         अपना  तन  सीतल  करे                        -         13   मात्राएँ

                         औरन   को  सुख  होइ                             -         11   मात्राएँ 
हरिगीतिका :

लक्षण :-              सोलह  दुआदस   यति  भवति   हरिगीतिका  लागत   भली

व्याख्या :-
                           इस छंद में 16  एवं  12  मात्राओ के बाद यति आती है।   इसमें कुल 28  मात्राएँ
                           होती है।   अन्त  में लघु  गुरु  होता है।   यह सम मात्रिक  छन्द  है।
उदाहरण:-
                           पापी  मनुज  भी  आज  मुँह   से ,  राम  नाम  निकालते

                            देखो  भयंकर  भेड़िये  भी ,   आज   आंसु    डालते

व्याख्या :-

                            इसमें  प्रत्येक  चरण  में  16  तथा  12   मात्राओं  के  बाद यति आई  है।   अन्त
                             
                             में  लघु  गुरु  है।   इसके प्रत्येक चरण में 28  मात्राएँ  है  अत: यह हरिगीतिका

                              छन्द  है। 

Sunday, 19 July 2015

सोरठा :

लक्षण :                 सम तेरह  विषम  शिव ,  दोहा  उलटा   सोरठा

व्याख्या :
                             इसके सम चरण अर्थात दूसरा एवं  चतुर्थ चरण में 13  मात्राएँ होती है  तथा प्रथम
                              एवं तृतीय  चरण में 11  मात्राएँ होती है।   यह दोहे से उलटा होता है।   दोहे में
                               सम में 11 तथा विषम में 13 मात्राएँ होती है।
उदाहरण:
                               मंगल  मूल  महेश                                -    11  मात्राएँ

                               दूर  अमंगल  को  करें                            -    13  मात्राएँ

                               ब्रह्मविवेक   दिनेश                               -    11  मात्राएँ

                               मोह  महा  तम  को  हरे                          -    13  मात्राएँ

व्याख्या:
                              यहाँ  प्रथम एवं तृतीय चरण में 11  मात्राएँ तथा  दूसरे एवं चौथे चरण में 13  मात्राएँ
                               आई है  अत: यहाँ पर सोरठा छंद हुआ। 
रोला :-

लक्षण :-
                         रोला   में   चौबीस  कला  यति  ग्यारह  तेरह

व्याख्या :-
                           यह सम -मात्रिक  छन्द  है।   इसके प्रत्येक  चरण में चौबीस मात्राएँ  होती है।
                            ग्यारह और तेरह पर  होती है।
उदाहरण :-
                            जीती  जाती हुई  जिन्होंने भारत    बाजी
                             जिन  बल  से  मलमेट  विधर्मी  मुगल कुरली
                              जिसके  आगे ठहर  सके जंगी  न  जसजी
                               है  ये  वही  प्रसिद्ध  छत्रपति  भूप  शिवाजी

उदाहरण :-
                             हे  देवो  यह   नियम  सृष्टि   में  सदा   अटल  है
                             रह  सकता  है  वही  सुरक्षित  जिसमें  बल  है
                             निर्बल  का  है   नहीं   जगत  में   कहीं   ठिकाना
                             रक्षा  साधन  उसे  प्राप्त   हों     चाहे    नाना

व्याख्या:-               इसमें प्रत्येक चरण में चौबीस मात्राएँ है तथा ग्यारह या तेरह मात्राओं के बाद
                              यति आई है   अत: यहाँ पर रोला छंद है।                     

Saturday, 18 July 2015

मात्रिक छंद

मात्रिक  छंद :-

चौपाई :-

लक्षण :-             सोलह   कल  जत   अन्त   न   भाई

                          सम   सम  विषम  विषम  चौपाई

व्याख्या :-
                          यह सम - मात्रिक  छंद है।   इसके प्रत्येक चरण में सोलह मात्राएँ  होती है।   अन्त  में
                          में जगण या  तगण  नही  होता।   सम के बाद  सम  और विषम  के बाद विषम  मात्राएँ
                           होती है।
उदाहरण :
                          सुन  जननि  सोइ  सुत  बड़  भागी                  - 16  मात्राएँ
                           जो  पितु   मातु   वचन  अनुरागी                    -16   मात्राएँ
                                                       
                            तनय  मातु  पितु   तोशन  हारा                      -16   मात्राएँ
                            दुर्लभ  जननि   सकल  संसारा                         -16   मात्राएँ
व्याख्या :-
                            इस छंद के प्रत्येक चरण में 16 -16  मात्राएँ है अंत ,में जगण , तगण नही है।
                           अत: यह चौपाई  का उदाहरण  है।   

कवित्त

कवित्त :-

व्याख्या :-
                       यह वार्णिक समछंद  है।   इसके प्रत्येक चरण में 31  वर्ण होते है।  वर्णो का क्रम
                        निश्चित नही होता है। अर्थात गणो की कोई व्यवस्था नही होती।   विशेष नियम
                         है  कि 16 तथा 15  वर्णो पर यति होती है  और चरण के अंत में एक गुरु वर्ण होता है।

उदाहरण :-

                        मैने  कभी   सोचा  वह  मंजुल  मंयक  में  है       -      16

                        देखता इसी  से  उसे  चाव  से  चकोर   है             -      15

                        कभी  यह  ज्ञात  हुआ  वह  जलधर  में  है            -      16

                         नाचता  निहार  के  उसी  को  मंजु मोर  है           -       15
व्याख्या :-
                         
                         इस पद्य के प्रत्येक चरण में 31 - 31  वर्ण और अंतिम वर्ण गुरु है  तथा  16  -15  पर
                     
                         यति है।   अत: यह कवित्त छंद है। 

मत्तगयन्द सवैया

मत्तगयन्द  सवैया :-

लक्षण :-          सात भगण  मिला  गुरु  दो  कह  दो  तब  मत्तगयन्द  सवैया

व्याख्या :-
                       यह समवृत  है।   इसमें सात भगण और दो गुरु के क्रम से 23 वर्ण होते है।
उदाहरण :-

                      या  लकुटी  अरु  कामरिया  पर  राज  तिहूँपुर  को  तजि  डारो

                       आठहु  सिद्धि  नवो  निधि  को  सुख  नन्द की गाय  चराय बिसारों

                       रसखान कबौ इन आँखिन ते ब्रज के बन बाग़ तड़ाग  निहारो

                       कोटिन हू  कलधौत के धाम  करील के  कुंजन  ऊपर  वारों

व्याख्या :-
                       इसमें सात भगण और दो गुरु के क्रम से 23  वर्ण आने से यहाँ  मत्तगयन्द

                       सवैया है। 

सवैया

सवैया :-

विशेष :       वार्णिक छन्दों में 22  वर्ण से लेकर 26  वर्ण  तक के छन्दों को सवैया कहा जाता है।  इसके अनेक
                   भेद है।   उदाहरण  के तौर पर दो निम्नलिखित  है :-

मंदिरा सवैया :-

लक्षण :-          सात   भकार   गुरु  इक  हो  जब  पिगलवेदि  कहें   मंदिरा

व्याख्या :-        यह समवृत है।   इसके  प्रत्येक चरण में सात भगण और एक गुरु के क्रम से 22 वर्ण होते है।

उदाहरण :-
                        तोरि  सरासन  शंकर  को  सुभ  सीय  स्वयंवर  मांहि  वरी
                        ताते बढ़यो  अभिमान  महा  मन मेरियो  नेक  न   शंख  धरो
                        सो अपराध  परो  हम  सों  अब  क्यों  सुधरे तुमहू धो  कहो
                        बाहु  दे  देहु  कुठारिह  केशव  आपने  धाम को पंथ  गहो

व्याख्या :         इसमें क्रमश: सात  भगण और एक गुरु क्रमश: चारो चरणों में आये  है  अत: यह


                      मंदिरा  सवैया  है।

मन्दाक्रान्ता

मन्दाक्रान्ता :-

लक्षण :-                   मन्दाक्रान्ता   म   भ   न  त    त    गा    गा    कहें   छन्दप्रेमी

व्याख्या :-              
                               यह वर्णिक सम -छंद है।   इसके प्रत्येक चरण में क्रमश: मगण , भगण ,नगण
                             
                               तगण  तगण  तथा दो गुरु के क्रम से 17 -17 वर्ण होते है।
उदाहरण :-
                               जो   मै   कोई   विहग    उड़ता  व्योम   में  देखती  हूँ

                                तो   उतकण्ठा  वश  विवश  हो  चित्त  में  सोचती  हूँ

                                होते    मेरे   निबल  तन   में   पक्ष  जो  पंक्षियों    से

                                तो   यो    ही   मै  समुद  उड़ती  श्याम  के  पास  जाती
व्याख्या :-              
                                उपर्युक्त छंद  के प्रत्येक चरण में क्रमश: मगण , भगण , नगण ,

                               तगण ,, तगण तथा दो गुरु के क्रम से 17 -17  वर्ण  है।  अत: यह

                                मन्दाक्रान्ता  छंद  है। 

Friday, 17 July 2015

शिखरिणी

शिखरिणी ;-

लक्षण :-         सदा   से   है   भाती   य   म  न   स  भ   ला   गा   शिखरिणी

व्याख्या :-
                       यह सम-वार्णिक  छन्द  है।   इसके प्रत्येक चरण में यगण , मगण,  नगण ,  सगण
                   
                       भगण और अन्त में लघु , गुरु  होते है।   अत:  इसमें क्रमश: 17 -17  वर्ण  होते  है।

उदाहरण :-
                      छटा  कैसी  प्यारी , प्रकृति  तिय  के  चन्द्रमुख   की

                       नया  नीला   ओढ़े   वसन   चटकीला    गगन      का

                       ज़री  सल्मा  रूपी , जिस   पर  सितारे  सब    जड़े

                       गले   में    स्वर्गगा , अति  ललित   माला  सम  पड़ी

व्याख्या :-
                        उपर्युक्त छंद में क्रमश: 17 -17  वर्ण है।   इसके प्रत्येक चरण में यगण , मगण ,नगण

                        सगण , भगण और अन्त  में  लघु तथा गुरु  होने से शिखरिणी  छंद  है।

वसन्ततिलका

वसन्ततिलका ;-


लक्षण :-                मानो   वसन्ततिलका    त    भ   जा   ज   गा    गा


व्याख्या :-             यह सम -वर्णिक छंद है।   इसके प्रत्येक चरण में तगण  भगण , जगण , जगण

                             और अन्त में दो गुरु के क्रमश :  14  वर्ण होते है।

उदाहरण :-
                              भू  में   रमी    शरद   की  कमनीयता    थी

                              नीला   अनन्त  नभ    निर्मल   हो  गया  था

                              थी   छा   गई  ककुभ   में  अमिता  सिताभा

                               उत्फुल्ल   सी   प्रकृति  थी  प्रतिभात  होती

व्याख्या :-            
                               उपर्युक्त  छंद में क्रमश : 14 वर्ण  है।   इसके  प्रत्येक चरण में तगण , भगण

जगण , जगण  और  अन्त  में  दो  गुरु  है।  अत : यह वसन्ततिलका  छंद हुआ।

वंशस्थ

 वंशस्थ  :


लक्षण :-         लसे सु  वंशस्थ   ज  ता  ज  रा  शु  भा


व्याख्या :-      यह वार्णिक समछंद   है।   इसके प्रत्येक चरण में जगण , तगण ,जगण  और रगण
         
                      क्रमश : बारह  वर्ण होते है।

उदाहरण  :    -वसन्त   ने   सौरभ   ने   पराग   ने
                     प्रदान  की  थी अति  कान्त  भाव से
                     वसुन्धरा को, पिक को , मिलिन्द को
                      मनोज्ञता ,  मादकता ,    मदान्द्ता

व्याख्या :-
                      उपर्युक्त छंद में  क्रमश : 12 -12 वर्ण है।   इसके   प्रत्येक चरण में जगण , तगण , जगण

                     और  रगण आने से वंशस्थ  छंद  हुआ।
 
                       




सभी पाठकगणों को मै बताना चाहती हूँ कि मेरी चार पुस्तकें अमेज़ॉन डॉट कॉम  इन तथा अमेजॉन डॉट कॉम
पर उपलब्ध है  पांचवी पुस्तक   बिखरे   पन्ने  (कविताओ का संग्रह ) अमेज़न डॉट कॉम पर उपलब्ध है
कृपया उन्हें पढ़कर अपने  विचारों  से मुझे अवगत कराएं। 

Thursday, 16 July 2015

द्रुतविलम्बित

  द्रुतविलम्बित :-

लक्षण :-              द्रुतविलम्बित  सोह   न    भा   भ  रा

व्याख्या :-          इस छन्द में  12 -12  वर्णो के बाद यति आती  है।   इसमें  क्रमश: नगण , भगण
                         
                          भगण  और  रगण  आते है।

उदाहरण :-
                          दिवस का अवसान समीप था
                   
                          गगन था कुछ लोहित हो चला

                          तरु शिखा  पर थी अब राजती

                           कमलिनी कुल वल्ल्भ की प्रभा
व्याख्या :-
                          उपर्युक्त छन्द में 12 -12 वर्णो के बाद यति आई है।   इसमें नगण , भगण ,भगण
           
                          रगण  आने से द्रुतविलम्बित   छन्द  हुआ।



                       
                         
                     

                           

                        

छन्द

छन्द :


यमाताराजभानसलगा


गण नाम                                      स्वरूप                                            उदाहरण  

यगण                                           आदिलघु                                           यमाता

मगण                                            त्रिगुरु                                               मातारा

तगण                                            अन्तलघु                                          ताराज     

रगण                                             मध्यलघु                                          राजभा

जगण                                            मध्यगुरु                                           जभान

भगण                                           आदिगुरु                                            भानस

नगण                                            त्रिलघु                                                 नसल

सगण                                           अन्तगुरु                                            सलगा